दुनिया के सात अजूबे के नाम और फोटो | Duniya Ke Saat Ajoobe Aur Unki Photo

दुनिया में सात अजूबों का चुनाव आज से नहीं बल्कि बहुत पुराने समय से चला आ रहा है। इसकी शुरुआत ग्रीक इतिहासकार हेरोडोटस और विद्वान कल्लिमचुस ने आज से करीब 2200 साल पहले ही की थी। इन दोनों व्यक्तियों की वजह से ही आज दुनिया सात अजूबों को जानती है। आपको बता दें कि शुरुआत में चुने गए सात अजूबों में से 6 अजूबे आज नष्ट हो चुके हैं इनमें से केवल गीजा का पिरामिड ही सुरक्षित बचा है। आज किस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे दुनिया के सात अजूबों के बारे में। आज किस आर्टिकल में आपकी पहचान होगी दुनिया के सात अजूबों के नाम और उनके फोटो से।

जानिए कैसे होता है सात अजूबों का चुनाव

हर किसी के मन में यह सवाल आता है कि आंखें इन सात अजूबों का चुनाव कौन करता है? लोग अक्सर गूगल पर यह सर्च करते हैं कि सात अजूबों का चुनाव कौन करता है। आज आपके सवाल का जवाब हम देंगे। दरअसल पुरानी सात अजूबों के नष्ट हो जाने के बाद से यह काम स्विटरज़रलैंड की the New 7 Wonders Foundation कर रही है। यह संस्था सात अजूबों का चुनाव करवाने के लिए एक वोटिंग प्रक्रिया का सहारा लेती है। आपको बता दें कि इस वोटिंग में दुनिया के करीब 100 मिलियन लोगों ने हिस्सा लिया था। यह वोटिंग 2007 तक चली थी जिसके बाद दुनिया के सात अजूबों का चुनाव हुआ था।

दुनिया के सात अजूबे के नाम और फोटो (Duniya Ke Saat Ajoobe Aur Unki Photo)

हमारे इस आर्टिकल में हम आपकी पहचान कराएंगे दुनिया के सात अजूबों के नाम और उनके फोटोस से। आइए जानते हैं दुनिया के सात अजूबों के बारे में-

(1) चीन की दीवार (The Great Wall of China)

चीन की दीवार को सात अजूबों में से एक अजूबा माना जाता है। इसकी खासियत जानकर आप हैरान हो सकते हैं। आपको बता दें कि चीन की दीवार को अंतरिक्ष से भी साफ देखा जा सकता है। चीन की दीवार का निर्माण सातवीं शताब्दी में शासकों ने बाहरी आक्रमण से खुद को बचाने के लिए करवाया था। इस दीवार की कुल लंबाई 6400 किलोमीटर बताई जाती है। साथ ही इसकी ऊंचाई 35 फीट की है। यह दीवार चीन के पूर्वी हिस्से से लेकर पश्चिमी हिस्से तक फैली हुई है। इसके पीछे एक पैकेट और बताया जाता है कि इस दीवार को बनाने में लगभग 20 से 30 लाख लोगों ने अपनी जान गवाई थी। साल 1987 में चीन की दीवार को यूनेस्को की विश्व धरोहर में भी शामिल किया गया।

(2) चिचेन इत्ज़ा (Chichén Itzá)

चिचेन इत्ज़ा (Chichén Itzá) मेक्सिको का एक बहुत ही प्राचीन मयान मंदिर है। बताया जाता है कि इस मंदिर का निर्माण 700 एडी में किया गया था। या मंदिर मैक्सिको की सबसे पुरानी स्थलों में से एक माना जाता है। इस मंदिर को साल 1988 में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल किया गया था।

(3) पेट्रा (Petra)

मेट्रो शहर अपनी अनोखी कलाकृतियों के लिए दुनिया भर में मशहूर है। यही वजह है कि इसे दुनिया के सात अजूबों में से एक अजूबा माना जाता है। इस शहर की खासियत है कि इस शहर को चट्टानों को काटकर बनाया गया है। चट्टानों को काटकर यहां बेहद खूबसूरत इमारते बनाई गई है। यहां हर साल लाखों पर्यटक इन गजब की खूबसूरत इमारतों को देखने के लिए आते हैं।

(4) ताजमहल (Tajmahal)

भारत का ताजमहल सात अजूबों में से एक है। इसे भारत की शान कहना गलत नहीं होगा। यह खूबसूरत महल पर्यटकों के बीच काफी लोकप्रिय है। हर साल लाखों की संख्या में पर्यटक देश विदेश से इसे देखने के लिए भारत आते हैं। इसे प्यार की निशानी भी कहा जाता है। मुगल बादशाह शाहजहां ने अपनी बेगम मुमताज महल की याद में ताजमहल का निर्माण करवाया था। यह महल खूबसूरती का एक जबरदस्त नमूना है।

(5) कोलोसियम (Colosseum)

इटली के रोम में स्थित कोलोसियम एक तरह का स्टेडियम है। स्टेडियम में 5 हजार से भी ज्यादा लोगों के बैठने की व्यवस्था है। कहा जाता है कि स्टेडियम में पुराने खेलो जैसे घुड़सवारी का आयोजन किया जाता था। वर्तमान समय में प्राकृतिक आपदाओं के कारण इसका काफी हिस्सा नष्ट हो चुका है। फिर भी अपनी खूबसूरती के दम पर आज यह स्टेडियम विश्व के सात अजूबों में से एक अजूबा बना हुआ है।

(6) माचू पिच्चु (Machu Picchu)

दक्षिण अमेरिका के पैरों में स्थित माचू पिच्चु दुनिया के सात अजूबों में से एक अजूबा है। कहा जाता है कि यहां पर इंका सभ्यता निवास किया करती थी। इस जगह को साल 1983 में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल में शामिल किया गया।

(7) क्राइस्ट रिडीमर (Christ the Redeemer)

ब्राजील की राजधानी रियो डी जेनेरियो में स्थित यह ईसा मसीह की एक विशाल मूर्ति है। पूरी दुनिया में अब तक की यह सबसे बड़ी मूर्ति मानी जाती है।

आज हमने जाना दुनिया के सात अजूबों के नाम और उनके फोटो के बारे में। आशा करते हैं हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपके काम आई होगी।

Leave a Comment