नीलांबर-पीतांबर जल समृद्धि योजना: सरकार खर्च करेगी 144 करोड़, किसानो को होगा सीधा फायदा, पढ़ें पूरी खबर

 नीलांबर पीताम्बर धन समृद्धि योजना खर्च करने होंगे 144 करोड रुपए किसानों को होगा सीधा फायदा

नीलांबर पीताम्बर योजना जन समृद्धि योजना 2021

nilamber pitamber jal samriddhi yojana
nilamber pitamber jal samriddhi yojana

नीलांबर पीताम्बर समृद्धि योजना ऑनलाइन आवेदन के लिए आप बिल्कुल सही पेज पर आए है. आपको यहां पर इस योजना से जुड़ी सभी जानकारियां प्राप्त होंगी. झारखंड में पानी की कमी को दूर करने के लिए झारखंड सरकार द्वारा  नीलांबर पीताम्बर समृद्धि योजना 2021 का शुभारंभ किया गया है. इस योजना के माध्यम से झारखंड में जल की कमी को खत्म किया जाएगा, ताकि किसानों को उनकी फसलों के लिए पानी से जुड़ी किसी भी प्रकार की परेशानी का सामना ना करना पड़े.आइए हम आपको बताते है कि नीलांबर पीताम्बर समृद्धि जल योजना के उद्देश्य लाभ पात्रता और विशेषताएं क्या है, अथवा आप इसके लिए किस प्रकार आवेदन कर सकते है.

नीलांबर पीताम्बर समृद्धि योजना 2021

नीलांबर पीताम्बर योजना की शुरुआत झारखंड सरकार द्वारा वर्ष 2020 में 4 मई को की गई थी. इस योजना का शुभारंभ झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी के द्वारा किया गया था. इस योजना के तहत झारखंड सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगों को रोजगार के अवसर भी प्रदान करने का फैसला किया है. झारखंड के माध्यम से खेतों के लिए पानी उपलब्ध कराया जा सकेगा और छोटे बड़े सभी किसानों को इसका फायदा मिलेगा. इस योजना के तहत किसानों को सालाना लगभग 500000 करोड लीटर संरक्षण प्राप्त होगा. इस योजना के माध्यम से झारखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को काफी लाभ पहुंचेगा और खेती के माध्यम से अपने जीवन को आसानी से यापन कर सकेंगे तथा पानी से जुड़ी किसी भी समस्या का सामना उन्हें नहीं करना पड़ेगा. आइए जानते हैं इस परियोजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य.

उद्देश्य

  • Nilamber-pitamber जल समृद्धि योजना 2021 को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगों को रोजगार उपलब्ध कराना था.
  •  nilamber-pitamber जल समृद्धि योजना 2021 के माध्यम से झारखंड के लोगों को योजना से जुड़ी जानकारियां और रोजगार के अवसर प्रदान कराना है.
  •  इस योजना का एक मुख्य कारण यह भी है, कि इससे खेतों को पानी प्राप्त हो पाएगा और एक गांव का पानी उसी गांव में  संरक्षित हो जाएगा.

 Nilamber-Pitamber जल समृद्धि योजना के मुख्य उद्देश्य 2021

योजना का नाम nilamber-pitamber योजना वर्ष 2021
 घोषणा करता झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन
 योजना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगों को खेती के लिए जल उपलब्ध कराना और लोगों को रोजगार की तलाश में अपने गांव को ना छोड़कर जाना पड़े इसलिए उनके लिए इस योजना के तहत रोजगार के अवसर उपलब्ध कराना
 योजना का लाभ इस योजना का लाभ ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले लोगों को खेती और रोजगार के माध्यम से दिया जाएगा
योजना के लाभार्थी झारखंड के किसान अथवा युवा
 योजना का घोषित वर्ष  4 मई 2020
 संबंधित विभाग ग्रामीण विकास विभाग झारखंड सरकार
 जल का संरक्षण उद्देश्य लगभग 500000 करोड लीटर पानी
 आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन या ऑफलाइन
 आधिकारिक वेबसाइट www.jharkhand.gov.in

Nilamber-pitamber जल समृद्धि योजना वर्ष 2021 का मुख्य उद्देश्य.

 इस योजना को झारखंड सरकार के द्वारा 4 मई वर्ष 2020 को शुरू किया गया था. झारखंड के मुख्यमंत्री के द्वारा किसानों की पानी की समस्या के समाधान के लिए शुरू की गई थी. झारखंड सरकार ने इस योजना का नाम झारखंड के शहीद nilamber-pitamber के नाम पर रखा था. हम आपको बता दें कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य के लिए वार्षिक क्षमता को बढ़ाना है, तथा यहां के युवाओं और ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को रोजगार दिलाना है. सरकार ने बताया कि इस योजना के माध्यम से सरकार खिलाड़ियों की प्रतिभा को और अधिक निखारने का कार्य करेगी अथवा खेल के माध्यम से नौकरी में आरक्षण भी प्रदान करेंगी.

 इस योजना के माध्यम से ग्रामीणों को काफी लाभ मिलेगा तथा बनने की राह में आगे बढ़ेंगे. Nilamber-pitamber जल समृद्धि योजना 2021 के माध्यम से मजदूरों को रोजगार प्रदान किया जाएगा और इसके बदले में उन्हें वेतन मिलेगा तथा गांव में रहने वाले लोगों को रोजगार की तलाश में अपने राज्य अथवा गांव को छोड़ कर के भी नहीं जाना पड़ेगा. इस योजना के माध्यम से सरकार ने लगभग 5 एकड़ खेती योग्य भूमि की सिंचाई का फैसला भी किया है.

 Nilamber-Pitamber योजना का मुख्य प्रभाव क्या है.

 Nilamber-pitamber जल समृद्धि योजना का मुख्य उद्देश्य गांव में कृषि योग्य भूमि के लिए जल संरक्षित करना है,तथा गांव के युवाओं को रोजगार प्रदान करना है. इस योजना के तहत झारखंड राज्य के लगभग 4000 पंचायतों को शामिल किया जा रहा है, अथवा राज्य में कई ऐसे बंजर खेत कथित तौर पर इस योजना के माध्यम से फिर से हरे भरे हो गए है, तथा इन खेतों का इस्तेमाल वापस से खेती करने के लिए किया जा रहा है. इस योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को उनके संबंधित गांवों में रोजगार उपलब्ध कराने का अवसर भी प्रदान किया जा रहा है. ऐसा माना जा रहा है कि nilamber-pitamber योजना के तहत लगभग तीन लाख 32901 को लागू करने का लक्ष्य रखा गया है. इससे पहले 1,97,228 चुका है. इस योजना के अंतर्गत लगभग 135735 योजनाओं का कार्य ही रह गया है.

 इस योजना के आने से झारखंड’ के लोगों को रोजगार के अवसर पर प्रधान हुए ही है. साथ में झारखंड में नहीं खुशहाली भी आई है, क्योंकि झारखंड के लोगों को रोजगार ढूंढने के लिए किसी अन्य राज्य की तरफ नहीं जाना पड़ता है.इसके अलावा झारखंड में हो रही पानी की समस्या का भी समाधान इसी योजना के माध्यम से कर लिया गया है.

Leave a Comment