PM Kisan Samman Nidhi: बदल गया आवेदन का तरीका, अब यह दस्तावेज है बेहद जरूरी, पढ़ें पूरी खबर

PM Kisan Samman Nidhi: पीएम किसान सम्मान निधि योजना रजिस्ट्रेशन के लिए नियम बदला गया है. जानिए अब ऐसा कौन सा दस्तावेज है, जिसके बिना आप इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते है . उत्तर प्रदेश में पीएम किसान सम्मान निधि योजना रजिस्ट्रेशन कोविड-19 जैसी गंभीर स्थिति के लगभग 8 महीने के बाद फिर से शुरू किया गया है.लेकिन यहां पर कुछ बदलाव किए गए है .यदि आप पीएम सम्मान निधि योजना का फायदा उठाना चाहते है , तो आपको इसके नए नियमों की जानकारी होना आवश्यक है.

 राशन कार्ड

 पीएम किसान सम्मान निधि योजना 2021 में यदि आप रजिस्ट्रेशन कराना चाहते है , तो आपको अब ऐसे महत्वपूर्ण दस्तावेज की आवश्यकता है. जिसके बिना आप का पंजीकरण नहीं हो पाएगा. जी हां हम राशन कार्ड की बात कर रहे है , राशन कार्ड के माध्यम से ही आप इस योजना का फायदा उठा सकते है.किसानों की ओर से रजिस्ट्रेशन कराने के लिए आपके राशन कार्ड से जुड़ा मोबाइल नंबर भी आने वाले है , क्योंकि जवाब रजिस्ट्रेशन कराएंगे तो इसी मोबाइल नंबर पर आपका ओटीपी आएगा. ओटीपी भरने के बाद ही आप की रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया संपूर्ण हो पाएगी.

केंद्र सरकार के द्वारा घोषित की गई पीएम सम्मान निधि योजना एक महत्वकांक्षी योजना है. इस योजना के अंतर्गत किसानों को एक निर्धारित आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है. इस योजना के तहत जिले के लाखों किसान लाभ उठा रहे है . इस साल कोविड-19 स्थिति को देखते हुए लगभग 8 महीने के लिए इस योजना को ठंडे बस्ते में डाल दिया गया था,तथा नए पंजीकरण सरकार के द्वारा स्वीकार नहीं किए जा रहे थे. लेकिन अब जबकि स्थिति सामान्य होने लगी है, तो दोबारा से योजना का पंजीकरण शुरू कर दिया गया है. लेकिन सरकार ने यहां पर एक शर्त लगा दी है, कि जिन आवेदकों के पास राशन कार्ड होगा केवल उन्हें ही इस योजना का लाभ प्राप्त होगा.

 यदि हम सरकार की माने तो उनका कहना है, कि राशन कार्ड की अनिवार्यता के साथ रजिस्ट्रेशन के समय आवेदक के मोबाइल फोन पर एक ओटीपी आएगा. इसके बाद ही पंजीकरण की प्रक्रिया पूर्ण होगी पंजीकरण में किसानों को खतौनी की नकल बैंक पासबुक और आधार कार्ड की छाया प्रति अपने ग्राम या जिला के लेखपाल से सत्यापित करके फॉर्म के साथ जमा कराना होगा. पंजीकृत किसानों को पीएम सम्मान निधि योजना के तहत पात्रता पाए जाने पर ही उन्हें ₹500 प्रतिमाह दिए जाएंगे. यह धनराशि उनके सीधे बैंक अकाउंट में जाएगी. कृषि उपनिदेशक सुरेंद्र सिंह जी ने बताया कि किसानों के लिए आवेदन दोबारा से शुरू कर दिए गए है , और वह किसान जिन्होंने अभी तक पंजीकरण नहीं कराया है वह भी जल्द से जल्द अपने राशन कार्ड के माध्यम से पंजीकरण करा सकते है, ताकि उन्हें किसान सम्मान निधि योजना 2021 का लाभ प्राप्त हो सके.

पीएम किसान निधि वर्ष 2021 लाभार्थियों की संख्या

 हम आपको बताने जा रहे है  कि अब तक पीएम किसान सम्मान निधि के तहत लगभग 2500000 किसानों को यह सम्मान मिल चुका है, तथा कोविड-19 के बाद लगभग 50000 के साथ इसका वर्तमान में फायदा उठा रहे है . विभाग के अनुसार पिछले साल अगस्त महीने में किसानों को किसान सम्मान निधि पहले ही भेज दी जा चुकी है. अब जो किसान पंजीकरण के बाद सत्यापन विभाग के द्वारा अपना रजिस्ट्रेशन कर आते है , तभी उन्हें इस योजना का लाभ प्राप्त हो पाएगा.

क्या है पीएम किसान सम्मान निधि योजना.

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना सरकार के द्वारा चलाई जा रही उन्मुख योजनाओं में से एक है, जिसमें सभी किसानों को न्यूनतम आय के रूप में हर साल लगभग ₹6000 प्रदान किए जाते है . इस योजना की घोषणा 1 फरवरी 2019 को भारतीय केंद्रीय बजट मंत्री श्री पीयूष गोयल जी द्वारा की गई थी. इस योजना की लागत लगभग ₹75000 है, प्रत्येक किसान जो इस सम्मान निधि के अंतर्गत पंजीकृत है. उसे प्रति वर्ष ₹6000 का भुगतान तीन किस्तों में किया जाता है, और यह भुगतान राशि किसानों के बैंक खातों में जमा की जाती है. भारत में ऐसा पहली बार हुआ है,एक साथ लगभग सभी किसानों को इस प्रकार का फायदा हो रहा है|

 पीएम किसान निधि योजना के मुख्य उद्देश्य

लघु और सीमांत किसानों को आय बढ़ाने के उद्देश्य से पीएम किसान सम्मान निधि योजना की शुरुआत की गई थी. इसे सरकार द्वारा चालू वर्ष में एक नई केंद्रीय योजना के माध्यम से शुरू किया गया था.

 पीएम किसान सम्मान निधि योजना का उद्देश्य के अंत में प्रत्याशित कृषि आय के अनुरूप फल स्वास्थ्य के लिए इस योजना को शुरू किया गया था.

 केंद्रीय सरकार द्वारा पीएम किसान सम्मान निधि योजना इसलिए भी शुरू की गई, ताकि किसान अपने खर्चों को पूरा कर सकें तथा वह किसी प्रकार से ही साहूकारों के चुंगल में ना पड़े तथा अपनी खेती से जुड़ी गतिविधियों को सुनिश्चित करता रहे.

 पात्रता मापदंड

 पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत कुछ मापदंड निर्धारित किए गए है. जिस को पूरा करने के बाद ही किसानों को इस सम्मान निधि का फायदा मिल पाएगा.

 डेटाबेस में जमीन के मालिक का नाम अथवा लिंग.

 सामाजिक वर्गीकरण अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति.

 आधार नंबर बैंक अकाउंट नंबर मोबाइल नंबर.

 भूमि अभिलेख का विवरण.

 जनधन बैंक खाता संख्या आधार और मोबाइल नंबर पात्र लाभार्थियों और सक्षम दावेदारों की पहचान करने में मदद करेगा.

 जोत के बावजूद सभी किसान इसके पात्र होंगे.

 योजना के तहत भूमि के स्थान का मूल्यांकन नहीं किया जाता है कि भूमि कृषि योग्य है या नहीं.

  लघु खेती करने वाले किसानों को भी पीएम  किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत शामिल किया गया है.

Leave a Comment