PM Vaya Vandana Yojana: प्रधानमंत्री ने शुरू की योजना, वृद्धजनों को मिलेगी 10 हजार की मासिक पेंशन, ऐसे करें आवेदन

PM Vay vandana yojana: हम सभी कभी ना कभी बूढ़े होंगे और बुढ़ापे की चिन्ता हमें शुरू से ही सताने लगती है. ऐसे में यदि कोई आमदनी का साधन ना हो तो यह सोच कर ही मन घबराने लगता है. कि बुढ़ापा कैसे कटेगा लेकिन इस बात से आपको अब घबराने की कोई जरूरत नहीं है. क्योंकि भारत सरकार के द्वारा प्रधानमंत्री वय वंदना योजना 2021 शुरू की गई है. जिसमें निवेश करने के बाद आप को प्रतिमाह ₹10000 तक की पेंशन प्राप्त हो सकती है. किस तरह मिल सकता है. आपको यह फायदा क्या है. इस योजना के नियम और शर्तें जानने के लिए पढ़ें पूरा लेख.

pradhanmantri-vyay-vandana-yojana

केंद्र सरकार के PM Vay vandana yojana की लोगों के बीच में धीरे-धीरे मांग बढ़ने लगी है. इस योजना की विशेषता यह है. कि एक निश्चित समय तक निवेश करने के बाद आपको पेंशन स्वरूप ₹10000 प्रति माह प्रदान किए जाएंगे. इस योजना में 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को शामिल किए जाने की बात कही गई है.

PM Vay vandana yojana 2021

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना 2021 4 मई 2017 को शुरू की गई थी, और यह योजना 31 मार्च 2020 तक उपलब्ध थी. लेकिन इस योजना को मार्च 2023 तक बढ़ा दिया गया है. यानी इस योजना में 3 सालों को और जोड़ा गया है.

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना 2020-21 के लिए हर साल 7.40% की वापसी की सुनिश्चित आधार प्रदान करती है. इसके अलावा हर साल यह दर रीसेट की जाती है. वित्तीय वर्ष के लिए योजना का मासिक देय 7.4% था. 31 मार्च 2022 तक के लिए घोषित की गई है. आपको बता दें कि पॉलिसियों के लिए 10 वर्ष की पॉलिसी अवधि के लिए होगी, यानी आवेदक को 10 सालों तक निवेश करना होगा उसके बाद ही इस पॉलिसी में रिटर्न का हकदार होगा.

PM Vay vandana yojana के लाभ

  • PM Vay vandana yojana खरीदते समय पेंशनभोगी के द्वारा चुनी गई मासिक तिमाही अर्धवार्षिक या फिर वार्षिक निवेश दर के अनुसार ही 10 वर्षों के लिए देव होगी और प्रत्येक अवधि के अंत में पेंशन दी जाएगी.इस योजना को जीएसटी  के दायरे से बाहर रखा गया है.
  • यदि पेंशनभोगी की मृत्यु हो जाती है, और 10 वर्षों तक यह पॉलिसी नहीं जमा कर पाता है. तो अंतिम पेंशन किस्त कितनी राशि जमा की गई होगी. उस हिसाब से ही उसके परिवार को पेंशन प्रदान की जाएगी.
  •  10 वर्षों की पॉलिसी अवधि के अंत में पेंशनभोगी यदि जीवित रहता है. तो उसे पूर्ण धन राशि 75% तक प्रदान की जाएगी.
  •  3 सालों के लिए पॉलिसी खरीदने के बाद यदि आप पॉलिसी की 75% तक जमा करते है. तभी आप इस पॉलिसी के पेंशन के हकदार होंगे. यह योजना स्वयं या जीवनसाथी की किसी भी गंभीर लाइलाज बीमारी के लिए समय से पहले निकालने के लिए भी अनुमति देता है. यदि आप इस पॉलिसी को समय से पहले निकाल लेते है. तो आपको इस राशि का 90% पैसा वापस कर दिया जाएगा.
  • यदि पॉलिसी अवधि के 10 वर्षों के भीतर पेंशनभोगी की मृत्यु हो जाती है. तो लाभार्थी को क्रय मूल्य का भुगतान किया जाएगा अधिकतम की सीमा एक पूरे परिवार के लिए होती है.
  • परिवार में पेंशनभोगी उसकी पत्नी पति और आश्रित व्यक्ति शामिल होंगे यह योजना गारंटी कृत ब्याज और वास्तविक ब्याज और प्रशासन से संबंधित खर्चों के बीच में अंतर होने के कारण कमी होने पर भारत सरकार के द्वारा सब्सिडी भी प्रदान करती है.

 प्रधानमंत्री पेंशन योजना की शर्तें और प्रतिबंध

 PM Vay vandana yojana के लिए न्यूनतम आयु 60 वर्ष होनी चाहिए अधिकतम आयु के लिए कोई भी आयु सीमा निर्धारित नहीं है. पॉलिसी की अवधि 10 वर्ष तथा अधिकतम निवेश की सीमा 1500000 रुपए प्रति वर्ष वरिष्ठ नागरिक है. हम आपको बता दें कि न्यूनतम पेंशन योजना के तहत यदि आप निवेश करते है. तो आपको हजार रुपए प्रतिमाह ₹3000 प्रति तिमाही ₹6000 प्रति छमाही और ₹12000 प्रति वर्ष निवेश करने होंगे यदि आप अधिकतम पेंशन योजना के लिए निवेश करते है. तो आपको ₹9250 प्रति महीने ₹27750 प्रति तिमाही ₹55500 प्रति छमाही और ₹111000 प्रति वर्ष के हिसाब से निवेश करना होगा.

 अधिकतम पेंशन योजना में एक पूरे परिवार को सम्मिलित कर आ जाएगा जिसमें पति-पत्नी और उस पर आश्रित रहने वाले व्यक्तियों की संख्या तय होगी हम आपको बता दें, कि PM Vay vandana yojana का उद्देश्य परिवार में पेंशनभोगी के लिए आर्थिक सहायता उपलब्ध कराना है. इस योजना को भारतीय जीवन बीमा निगम के माध्यम से ऑफलाइन और ऑनलाइन खरीदा जा सकता है. इस योजना को संचालित करने का एकमात्र विशेषाधिकार एलआईसी इंडिया के पास है.

 पेंशन भुगतान करने का तरीका.

 पेंशन भुगतान करने के लिए मासिक अर्धवार्षिक या वार्षिक तौर पर कर सकते है. पेंशन भुगतान या फिर आधार सक्षम भुगतान प्रणाली के माध्यम से भी की जा सकती है. पेंशन की पहली किस्त खरीदने की तारीख से 1 साल 6 महीने 3 महीने 1 महीने के बाद पेंशन भुगतान के तरीके के आधार पर ही वार्षिक अर्द्धवार्षिक प्रवासी किया मानसिक भुगतान किया जाएगा.

इन्हें भी पढ़ें-

Leave a Comment