Pran Vayu Devta Scheme: पेड़ों की देखभाल के लिए सरकार दे रही है 2500 की रकम, ऐसे लें योजना का लाभ

Pran Vayu devta Scheme: हम सभी जानते है कि पेड़ हमारे लिए कितने जरूरी है. सांस लेने तक से रोजमर्रा की जरूरतों के अधिकतर सामान लकड़ी से ही बनाए जाते है. यानी पेड़ पौधे हमारे जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा है. हवाओं को शुद्ध करने की बात हो या किसानों की जिंदगी को बेहतर बनाने की बात पेड़ों ने हमेशा साथ निभाया है. इन्हीं पेड़ों को सुरक्षित करने के लिए सरकार निरंतर प्रयासरत है. दुर्भाग्य की बात यह है कि हम लोग अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए लगातार पेड़ों को काट रहे है, और जिस तेजी से पेड़ काटे जा रहे है. हमें आने वाले समय में शुद्ध हवा को खरीदने के लिए बाजार जाना पड़ेगा.

Pran Vayu Devta Scheme
Pran Vayu Devta Scheme

Pran Vayu devta Scheme

पेड़ों को सुरक्षित करने के लिए और काटने से बचाने के लिए सरकार द्वारा लगातार कदम उठाए जाते रहे है. भारत सरकार की ओर से छोटे और भूमिहीन मजदूर और किसानों को आमदनी बढ़ाने के लिए सरकार की तरफ से अलग-अलग योजनाएं चलाई जाती रही है. प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा कई भाषाओं में यह पहले ही कहा जा चुका है,कि किसानों को समाज से जोड़ने के लिए हर जरूरी प्रयास किए जाएंगे. प्रधानमंत्री जी के इसी भाषण से प्रेरित होकर हरियाणा सरकार के द्वारा Pran Vayu devta Scheme चलाई गई है. इस योजना के तहत भूमिहीन किसानों को आने वाले समय में बहुत अधिक लाभ मिल सकता है.

Pran Vayu devta Scheme में पेड़ों की देखभाल करेंगे तो मिलेगी पेंशन

हरियाणा सरकार के द्वारा Pran Vayu devta Scheme के नाम से एक अनोखी पेंशन योजना चलाई गई है.जिसके तहत हरियाणा सरकार 75 वर्ष से अधिक उम्र वाले पेड़ों को पेंशन देने की योजना बना रही है. लेकिन इसके लिए एक शर्त रखी गई है. जिन लोगों को पेंशन पानी है प्राण वायु देवता योजना के तहत उन्हें पेड़ों की देखभाल करनी होगी. इस योजना में छोटे और भूमिहीन किसानों को शामिल करने की पहल की गई है. हम आपको बता दें कि इस योजना के तहत जो लोग पेड़ों की रक्षा यह सेवा करेंगे उन्हें हरियाणा सरकार की तरफ से ₹2500 की पेंशन सालाना दी जाएगी.

क्या है इस योजना के उद्देश्य.

प्राण वायु देवता योजना पेड़ों को लाभ पहुंचाने के लिए तो बनाई ही गई है. लेकिन इस स्कीम के तहत छोटे किसानों और भूमिहीन मजदूरों को भी शामिल कर के आर्थिक लाभ देने की योजना बनाई गई है. जब किसान पेड़ों की देखभाल करेंगे इससे पेड़ों की कटाई पर रोक लगेगी पर्यावरण सुरक्षित रहेगा, और हवा की गुणवत्ता में भी सुधार होने लगेगा पेड़ों की पेंशन के लिए अंबाला वन संरक्षण विभाग के पास अब तक 55 पदों के लिए आवेदन आ चुके है.

पेंशन के लिए कैसे करें आवेदन.

हरियाणा सरकार के अंबाला जिला वन परीक्षण अधिकारी हरजीत कौर बताते है, कि अगर किसी व्यक्ति के घर के आस-पास 75 साल या उससे बड़ी उम्र के पेड़ है.तो वह इस योजना के तहत आवेदन कर सकते है. हम आपको बता दें पेड़ों की रक्षा करने के बाद ही पेंशन की योजना का लाभ आपको मिल पाएगा. इच्छुक आवेदक अपने जिले के वन विभाग में पेंशन स्कीम के तहत आवेदन कर सकते है.

पौधारोपण पर भी सरकार दे रही है जोर.

बढ़ते प्रदूषण के कारण बुजुर्ग लोगों और बच्चों को सबसे ज्यादा स्वास्थ्य समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है. सरकार की तरफ से बढ़ते वायु प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए तथा हवा को स्वच्छ बनाने के लिए पौधारोपण से जुड़े कई कार्यक्रम भी चलाए जा रहे है. इसके अलावा अंबाला वन विभाग संरक्षण के द्वारा जल शक्ति अभियान के तहत प्रत्येक गांव में पंचायतों को फ्री में एक 1000 पौधे बांटे जा रहे है. ताकि ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाए जा सके क्योंकि पौधों को विकसित होने में काफी समय लगता है.

पुराने पेड़ों की मिलती है अच्छी कीमत.

पुराने पेड़ों को इसलिए भी अत्यधिक काटा जाता है, क्योंकि इनकी अच्छी कीमत मिलती है. कुछ लोग मामूली से मुनाफे के लिए पुराने पेड़ों को काटकर बेच देते है.इन पेड़ों को बेचने की एक वजह यह भी है कि इनके तने बिल्कुल स्वस्थ होते है. लेकिन यह एक चिंता का विषय है. इसीलिए सरकार के द्वारा पुराने पेड़ों को काटने से बचने के लिए यह योजना शुरू की गई है.

हम सभी यह अच्छी तरह से जानते है कि पेड़ हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण है. दिनों दिन जिस तरह पृथ्वी पर पेड़ों की संख्या कम हो रही है. हवा उतनी ही जहरीली होती जा रही है. सर्दी का मौसम आते ही प्रदूषण तेजी के साथ बढ़ता है. जिससे बच्चों और बूढ़ों को सबसे अधिक परेशानी होती है.इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए ही छोटे किसानों और भूमिहीन मजदूरों के साथ मिलकर केंद्र सरकार पेड़ों को बचाने की भरपूर कोशिश कर रही है ,तथा पेंशन योजना के माध्यम से छोटे किसानों को आर्थिक मदद देने की भी योजना इसमें शामिल की गई है.

और भी जानें-

Leave a Comment