RBI Scheme: प्रधानमंत्री ने घोषित की शानदार स्कीम, मिलेगा सीधा लाभ

RBI Scheme: भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक (RBI Scheme) के दो प्रमुख योजनाओं का शुभारंभ किया गया. प्रधानमंत्री जी ने कहा कि भारत में निवेश करने का मौका मिलेगा और साथ ही प्राप्त होंगे. आरबीआई के इन दो मुख्य योजनाओं के नाम है. आरबीआई खुदरा प्रत्यक्ष योजना और रिजर्व बैंक एकीकृत लोकपाल योजना.

RBI Scheme

 क्या है RBI Scheme

 प्रधानमंत्री जी के द्वारा भारतीय रिजर्व बैंक की योजनाओं के माध्यम से प्रधानमंत्री ने बताया, कि छोटे व्यापारियों को इसमें सबसे अधिक लाभ प्राप्त होगा. सबसे महत्वपूर्ण बात की उन्हें निवेश करने का मौका मिलेगा और इसका लाभ यह है कि उन्हें इस योजना में निवेश करने के पश्चात रिटर्न्स भी प्राप्त होंगे. आरबीआई की खुदरा योजना और रिजर्व बैंक एकीकृत योजना दोनों ही योजनाएं देश में निवेश के तारों को बढ़ाने का काम करेंगे.

योजनाओं के तहत छोटे से लेकर बड़े व्यापारियों को लाभ होगा और निवेश में पारदर्शिता भी आएगी प्रधानमंत्री के द्वारा यह भी कहा गया कि लोकतंत्र में निवेश की भागीदारी उसके अर्थव्यवस्था को मजबूत करने का सबसे बड़ा हथियार है. हम सभी को इस निवेश की भावना का सम्मान करना चाहिए और अधिकतम निवेश करने की कोशिश करनी चाहिए. यह निवेश देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत और सशक्त करेगा.

 सुरक्षित निवेश के लिए बेहतर विकल्प

 प्रधानमंत्री जी के द्वारा यह कहा गया कि करो ना हमारे देश और दुनिया के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण और चुनौती भरा समय रहा. इस काल में भारत की ही नहीं बल्कि दुनिया भर की अर्थव्यवस्थाओं को बहुत अधिक नुकसान झेलना पड़ा. इसके अलावा भारत में वित्त मंत्रालय और अन्य वित्तीय संस्थाओं ने कार्य किया है.वह प्रशंसा के योग्य है. इसके अलावा प्रधानमंत्री जी ने यह भी कहा कि इस योजना से उन निवेशकों को फायदा होगा जो अब तक गवर्नमेंट सिक्योरिटी मार्केट में हमारे मध्यमवर्ग छोटे कर्मचारी व्यापारी वरिष्ठ नागरिक अपनी धनराशि को सुरक्षित रखने के लिए म्यूचुअल फंड या फिर बैंक इंश्योरेंस इत्यादि ले लेते थे. इस निवेश से उन्हें एक सुरक्षित निवेश और बेहतर विकल्प मिल रहा है.

प्रधानमंत्री जी ने अपने भाषण में कहा कि आरबीआई की योजना से देश के बड़े वर्ग को देश की संपदा के निर्माण में सीधा निवेश करने का मौका मिलेगा या नहीं. देश की अर्थव्यवस्था में अब हर प्रकार के व्यक्ति का सहयोग मिल पाएगा भारत में छोटे निवेशकों को सुरक्षित निवेश पर मिलने की भी उम्मीद है. प्रधानमंत्री जी ने कहा कि उनकी टीम आरबीआई की देश की भावना पर खरा उतरेगी और छोटे निवेश से बड़ी कामयाबी भी देश को फायदा पहुंचाएगी.इसके बाद उन्होंने यह भी कहा कि यह दशक देश के विकास की दृष्टि से एक महत्वपूर्ण दशक रहा है. बैंकिंग सेक्टर को और अधिक मजबूत करने के लिए को-ऑपरेटिव बैंकों को भी आरबीआई के दायरे में शामिल कर लिया गया है. इससे इन बैंकों की कार्यप्रणाली में भी सुधार आ रहा है इसके अलावा को ऑपरेटिव बैंक में जो लाखों जमा करते थे. उनके अंदर भी आरबीआई की कार्य क्षमता को लेकर के विश्वास मजबूत हो रहा है.

 नागरिकों की आवश्यकता पर ध्यान देना सबसे महत्वपूर्ण है

प्रधानमंत्री जी ने अपने संबोधन में कहा कि 7 सालों में भारत ने डिजिटल ट्रांजैक्शन के मामले में 19 गुना वृद्धि की है आज 24 घंटे हफ्ते के सातों दिन और साल के 12 महीने देश में बैंकिंग सिस्टम को चालू रखा जा रहा है.हमारे देश में नागरिकों की आवश्यकता को केंद्र में रखना आरबीआई की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए. निवेशकों के भरोसे को निरंतर मजबूत करना भी आरबीआई की जिम्मेदारी है. प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा और विश्वास है कि एक संवेदनशील और इन्वेस्टर फ्रेंडली डेस्टिनेशन के रूप में भारत की नई पहचान को आरबीआई लगातार संयोजित करके रखेगा आरबीआई ने सामान्य नागरिकों की प्राथमिकता को ध्यान में रखते हुए बहुत सारे अहम कदम उठाए है. और इन्हीं को मद्देनजर आज दो नई योजनाएं भविष्य में मील का पत्थर साबित हो सकती है.

RBI retail direct scheme

आरबीआई  रिटेल डायरेक्ट स्कीम इंडिविजुअल निवेशकों द्वारा सरकारी सिक्योरिटी में निवेश करने की सुविधा देने का एक मात्र सॉल्यूशन है. सरकारी बांड को खरीदने के लिए खुदरा निवेशक आरबीआई के साथ रिटेल डायरेक्ट गिल्ट अकाउंट खोल सकते है. यह बॉन्ड सरकारी सिक्योरिटी 70 के होते है. इस स्कीम के तहत रिटेल निवेशकों को आरबीआई के साथ रिटेल डायरेक्ट अकाउंट खोलने की सुविधा प्राप्त होती है.इस अकाउंट को इस स्कीम के लिए तैयार किया गया है.यह अकाउंट ऑनलाइन पोर्टल पर खोला जा सकता है. अमेरिका की तरह भारत में पहली बार बॉन्ड मार्केट से सीधा पैसा लगाने का काम करेगा. इसका मतलब है कि शेयर बाजार की तरह आप इन बॉन्ड को खरीद कर इन्हें एफडी कराकर पैसा कमा सकते है. सरकार को किसी काम के लिए यदि पैसा चाहिए होता है तो वह बांड के माध्यम से ही कार्य करती है वर्ड को हिंदी में ऋण पत्र कहते है. और यह एक तरीके का कर्ज होता है.

 रिजर्व बैंक एकीकृत लोकपाल योजना

 रिजर्व बैंक की एकीकृत योजना देश में लोगों द्वारा बैंक की शिकायतों के बारे में सुधार और समाधान के लिए शुरू किया गया है. इस योजना के पीछे आरबीआई की यह सोच है कि आम लोगों की शिकायतों का समाधान सबसे पहले किया जाना चाहिए. लोगों की शिकायतों को दूर करने के लिए इस स्कीम को एक टीम के तौर पर शुरू किया गया है. इसीलिए इसे लोकपाल कहा जा रहा है. इस स्कीम के तहत ग्राहक अपनी शिकायत एक ही पोर्टल क्या मेल एक पते पर कर सकते है. इसमें एक विंडो भी बनी हुई है जहां पर जाकर आप अपनी शिकायत और उससे जुड़े दस्तावेज जमा कर पाएंगे इसके अलावा अपने शिकायतों का ऑनलाइन स्टेटस भी जान पाएंगे.

इन्हें भी पढ़ें-

Leave a Comment