Start Your Business: शुरू करें अपना खुद का बिजनेस. छोटे से निवेश से प्राप्त करें, हर महीने ₹800000 रुपए.

Start Your Business: यदि आपके पास भी बहुत कम पैसे है, लेकिन आप इन्ही पैसों से मुनाफा कमाना चाहते है, तो आप अपने कम पैसों के निवेश से भी अच्छे पैसे कमा सकते है. हम आपको यहां पर एक ऐसा व्यापार का आईडिया देने जा रहे है. जिसमें बहुत न्यूनतम निवेश पर आप अपना खुद का व्यापार शुरू कर सकते है, तथा ₹800000 और उससे अधिक की आमदनी घर बैठे प्राप्त कर सकते है जी हां खेती खीरे की खेती यह वह बिजनेस आइडिया है. जिसमें कम लागत पर अधिक से अधिक कमाई की जा सकती है.

start your business
start your business

क्या है खासियत

खीरे की खेती एक ऐसा बिजनेस है, जिसमें किसी भी तरह की मिट्टी का इस्तेमाल करके इसको उगाया जा सकता है. चाहे आप के खेतों में चिकनी मिट्टी दोमट मिट्टी काली मिट्टी सिर्फ मिट्टी या बालू ही मिट्टी हो इस बात से आपको घबराने की जरूरत और अपने गांव में ही रहकर खीरे की खेती कर सकते है.खीरा एक ऐसा भोजन विकल्प है, जिसकी बहुत अधिक मांग रहती है, और यह स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद भी होता है.

केवल कुछ पैसों के निवेश से होगी लाखों की आमदनी

आपको जानकर यह हैरानी होगी कि खीरे को किसी भी तरह की मिट्टी में उगाया जा सकता है, और खीरे की फसल लगभग 60 से 80 दिनों में तैयार हो जाती है. वैसे तो खीरे की खेती करने के लिए गर्मियों का मौसम सबसे उत्तम माना गया है. लेकिन यदि आप वर्षा ऋतु में भी खीरे की खेती करतेहै तो इससे आपकी अच्छी पैदावार होती है, और बाजार में इसे बेचने पर आप को बहुत अधिक लाभ प्राप्त होगा. खीरे की खेती के लिए मिट्टी का मान पीएच 5.5 से छे आठ फ़ीसदी तक बहुत बढ़िया माना गया है. खीरे की फसल को आप किसी भी नदी या तालाब के किनारे भी उड़ा सकते है.

सरकारी सहायता से भी शुरू कर सकतेहै खीरे की खेती

उत्तर प्रदेश में किसानों द्वारा खीरे की खेती को पूरे जोरों शोरों के साथ किया गया है, क्योंकि इसमें उन्हें कम से कम निवेश में अधिक से अधिक मुनाफा प्राप्त हो रहा है. खीरे की खेती के लिए बहुत सारे खेतों में नीदरलैंड से मंगवाए गए बीजों का इस्तेमाल किया जा रहा है. इस बीच की खासियत यह है कि इसमें खीरे का बीज ना के बराबर होता है. इसी वजह से इन खेलों की मांग होटल रेस्टोरेंट में सबसे अधिक रहती है. किसान यदि चाहे तो वह बैंकों से सब्सिडी प्राप्त करके भी खीरे की खेती को शुरू कर सकते है.

इस खीरे की फसल की एक खासियत यह भी है, कि यदि बाजार में देसी खेड़ा ₹20 किलो बिकता है, तो भी नीदरलैंड वाला कीड़ा 40 से ₹45 प्रति किलो के हिसाब से बाजार में बेचा जाता है. खीरे की फसल को बेचने के लिए आप सोशल मीडिया का भी सहारा ले सकते है.यह खीरा फसल ऐसी फसल है जिसकी मांग साल भर रहती है, क्योंकि खीरा एक ऐसा फल है जिसे लोग आमतौर पर सलाद में खाना पसंद करते है. खीरे को खाने के बहुत सारे फायदे भी है,इसीलिए डॉक्टरी सलाह के बात आप अपने सलाद में भी खीरे का सेवन कर सकते है.

आइए अब जानते है, खीरे की खेती से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण बात है. इन बातों का ध्यान रख कर के आप केवल कुछ लाख के इन्वेस्टमेंट से बहुत अधिक मुनाफा प्राप्त कर सकते है. खेती का कार्य हमें तभी करना चाहिए जब हमें मिट्टी पानी सिंचाई आदि की पूर्ण जानकारी हो. इसीलिए हम आपको यहां पर खीरे की खेती से जुड़े कुछ जरूरी बातें बताने जा रहे है.

खीरे की खेती के लिए कैसी मिट्टी की आवश्यकता होती है.

खीरे की खेती के लिए मिट्टी का पीएच मान 5.5 से 6 8 वीं सदी तक होना चाहिए. खीरे की खेती के लिए यह मिट्टी सर्वोत्तम मानी गई है. इसके अलावा खीरे को किसी भी प्रकार की मिट्टी में उगाया जा सकता है.

खीरे की खेती के लिए उच्च तापमान की भी आवश्यकता होती है. यदि आप खीरे की खेती को करने की सोच रहेहै तो इसके लिए तापमान 24 डिग्री सेल्सियस से 25 डिग्री सेल्सियस के बीच में होना चाहिए. खीरे की खेती को गर्मियों के मौसम में करें लेकिन यदि आप बरसात के मौसम में भी इसे उगाना चाहते है तो यह भी एक अच्छा आईडिया है खीरे की खेती करने का.

खीरे की खेती के लिए भूमि

यूं तो खीरे की खेती किसी भी मिट्टी और भूमि में की जा सकती है, लेकिन इस खेती के लिए यदि आप भूमि को अच्छे से तैयार करेंगे तथा आप की भूमि में खरपतवार कम से कम हो तो आपकी खीरे की बंपर फसल होगी. मिट्टी को पहले अच्छी तरह से भुरभुरा बनाने के बाद ही खीरे की फसल को लगाना चाहिए. यदि आप अपने खीरों की गुणवत्ता को बढ़ाना चाहते है, तो आप इसके लिए गोबर या गोबर मिली हुई मिट्टी का इस्तेमाल कर सकतेहै.

खीरे की खेती के लिए अपनाया जाने वाला तरीका

यदि आप खेती करने की सोच रहेहै तो इसके लिए बुवाई करने का एक छोटा सा उपकरण आता है. जिसे डिबलर कहा जाता है यह डिबलर खूटे के साथ लकड़ी या लोहे का फ्रेम होता है. इस फ्रेम को खेतों में दबाकर उठा लिया जाता है. जिससे धरती के अंदर एक छेद हो जाता है, फिर इस क्षेत्र में आप बीजों को डाल दे एक बीज से दूसरे बीच की दूरी 120 सेंटीमीटर से 150 सेंटीमीटर के बीच में होनी चाहिए पौधे बीच को आप 2.0 से 4.0 सेंटीमीटर के बीच में ही लगाना चाहिए.

यह भी जाने :

Leave a Comment