UP Samuhik Vivah Yojana: शादी करने के लिए 51 हजार रूपये दे रही है सरकार, ऐसे करें आवेदन

CM Samuhik Vivah Yojana लड़की की शादी के लिए उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से ₹51000 दिए जा रहे है. सरकार खुद इन रुपयों को खर्च कर रही है. जानिए क्या है. उत्तर प्रदेश सरकार की सामूहिक विवाह योजना और कैसे मिलता है. उसका लाभ.

CM Samuhik Vivah Yojana

UP Samuhik Vivah Yojana

मुख्यमंत्री श्री आदित्य योगी नाथ जी के द्वारा UP Samuhik Vivah Yojana शुरू की गई है. यह योजना उन लोगों के लिए है. जो सामूहिक रूप से शादी करेंगे. यदि आप भी इस योजना के तहत आवेदन करना चाहते है. तो आपको पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा और क्या इसका तरीका है. आवेदन करने का जानने के लिए पढ़े पूरा लेख.

UP Samuhik Vivah Yojana मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत आती है. इस विवाह योजना के अंतर्गत गाजियाबाद के नेहरू पार्क में श्रम विभाग की ओर से एक सामूहिक विवाह का आयोजन किया गया.जिसमें हापुड़ और बुलंदशहर के 2306 जोड़ों के सामूहिक विवाह समारोह को सीएम योगी आदित्यनाथ के द्वारा संबोधित किया गया. इस दौरान उन्होंने कहा कि एक ही समूह में 2306 जोड़ों का विवाह गरीबों के कल्याण के प्रति राज्य और केंद्र सरकार की भावनाओं का मूल्यांकन है. मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत लगभग 1.75 लड़कियों को अब तक विवाहित किया जा चुका है. सीएम योगी ने गरीब कन्याओं की शादी के लिए सामूहिक विवाह कार्यक्रम को सरकार की जिम्मेदारी बताया.

मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना क्या है

  CM Samuhik Vivah Yojana योजना लोगों के लिए है. जो सामूहिक रूप से शादी करेंगे ऐसा इसलिए है. क्योंकि यह लोग आर्थिक रूप से कमजोर होते है. और शादी करने के लिए इनके पास किसी भी प्रकार की धनराशि उपलब्ध नहीं होती है. उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा चलाई जाने वाली इस योजना का नाम मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना है.

 शादी के लिए दिए जाते है. ₹51000.

 उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से सामूहिक विवाह योजना के अंतर्गत आर्थिक रूप से पिछड़े लोग कमजोर वर्ग विधवा महिलाओं और गरीब परिवारों के लड़कियों की शादी करवाई जाती है. इस योजना के लिए पंजीकृत विवाहित जोड़ों को सामूहिक शादी के लिए कुल ₹51000 आर्थिक सहायता दी जाती है. बैंक खाते के माध्यम से लड़की को दी जाती है. और कुछ राशि शादी के लिए बर्तन कपड़े लड़की के जैसे शुभ कार्यों के लिए खर्च किए जाते है. योजना का लाभ एक परिवार की दो लड़कियों को मिल सकता है. एक ही परिवार के दो लड़कियों को अलग-अलग ₹51000 प्रदान किए जाएंगे.

 सामूहिक विवाह योजना की क्या है शर्तें.

इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश की लड़कियों का विवाह उत्तर प्रदेश के लड़कों से सामूहिक विवाह समारोह में किया जाता है. लड़का और लड़की दोनों ही उत्तर प्रदेश के निवासी होते है. और इन्हें सामूहिक विवाह में शामिल होने से पहले पंजीकरण कराना आवश्यक होता है. रूप से गरीब और कमजोर वर्ग के परिवारों के लिए चलाई जा रही है. विवाह के समय लड़के की अधिकतम आयु 21 वर्ष होनी चाहिए और लड़की की अधिकतम आयु 18 वर्ष होनी चाहिए.

जो लोग इस योजना के लिए आवेदन करते है. उन परिवारों को ₹46080 प्रदान की जाती है. यह राशि ग्रामीण क्षेत्र के लोगों के लिए है. तथा शहरी क्षेत्र के लोगों को ₹56460 CM Samuhik Vivah Yojana के तहत प्रदान किए जाते है. इस योजना में वृद्धा पेंशन निराश्रित विधवा पेंशन विकलांग पेंशन तथा समाजवादी पेंशन वाले आवेदन करने वाले लोगों को किसी भी प्रकार के प्रमाण पत्र की आवश्यकता नहीं होती है. उत्तर प्रदेश सामूहिक विवाह योजना के तहत एक परिवार की दो लड़कियों को शामिल किया जा सकता है. यानी दोनों ही कन्याओं को अलग-अलग धनराशि प्रदान की जाती है.

 जरूरी दस्तावेजों की सूची.

 मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना के तहत पंजीकरण कराने के लिए कुछ आवश्यक दस्तावेज चाहिए होते है. जिन्हें दिखाने के बाद ही आपको विवाह के लिए पंजीकृत किया जाएगा. इसीलिए आपको अपने साथ आवेदन करते समय निवास प्रमाण पत्र आय प्रमाण पत्र नवविवाहित कन्या का बैंक पासबुक वर और वधू की पासपोर्ट साइज की फोटो जाति प्रमाण पत्र आधार कार्ड मतदाता पहचान पत्र जन्म प्रमाण पत्र रजिस्ट्रेशन के समय दिखाना चाहिए.

 रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया

यदि आप भी प्रधानमंत्री सामूहिक विवाह योजना  का फायदा उठाना चाहते है. तो आप इसके लिए ऑनलाइन ऑफलाइन आवेदन कर सकते है. ऑफलाइन आवेदन करने के लिए आपको अपने जिले के ब्लॉक ऑफिस में जाना होगा वहां से फॉर्म लेकर के और अपने सभी जरूरी दस्तावेजों की फोटोकॉपी लगाकर के ब्लॉक ऑफिस जमा करा दें. यदि आप ऑनलाइन आवेदन करना चाहते है. तो आप शादी अनुदान डॉट upsc.gov.in पर जाकर के रजिस्ट्रेशन करा सकते है. हम आपको बता दें कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करते वक्त भी आपको सभी जरूरी दस्तावेज अपलोड करने होंगे, तभी आपका पंजीकरण स्वीकार किया जाएगा जब आप ऑनलाइन पंजीकरण करें तो लॉगिन आईडी और पासवर्ड को संभाल कर रखें ताकि आप बाद में अपना स्टेटस जानने के लिए परेशान ना हो.

 मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह लोगों का प्रतिनिधित्व करती है. जो लोग समाज में तो रहते है. लेकिन आर्थिक रूप से कमजोर होते है. ऐसे में बेटियां उनके ऊपर बोझ बन जाती है. और वह उसकी शादी ब्याह के लिए परेशान होने लगते है. मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना गरीब लोगों के लिए वरदान साबित हुई है.

इसे भी पढ़ें:

Leave a Comment